बड़ी खबर राज्य

मांस की बिक्री पर रोक लगाने की मांग करने वाले अजमेर दरगाह के दीवान हटाये गए

अजमेर । मांस की बिक्री और गौहत्या पर पाबन्दी लगाने की मांग कर सुर्ख़ियों में आये अजमेर दरगाह के दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान को हटा दिया गया है। उन्होंने पीएम मोदी से देश में गोवंश के वध और इनके मांस की बिक्री पर रोक लगाने की मांग की थी। साथ ही मुस्लिम समाज से कहा था कि वे पहल करें ताकि बीफ को लेकर दो समुदायों के बीच पनप रहे वैमनस्य पर विराम लगे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, उनके भाई अलाउद्दीन आलिमी ने जैनुल को पद से हटाने का एलान किया और स्वयं को दीवान घोषित कर दिया। जैनुल ने तीन तलाक को भी गलत बताया था।

उन्होंने कहा था कि उनके पूर्वज ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती ने इस देश की संस्कृति को इस्लाम की नियमों के साथ अपना कर मुल्क में अमन-शान्ति और मानव सेवा के लिये जीवन सर्मपित किया। उसी तहजीब को बचाने के लिये गरीब नवाज के 805 उर्स के मौके पर वह और उनका परिवार बीफ के सेवन त्यागने की घोषणा करता है। उन्होंने कहा कि “वह हिन्दुस्तान के मुसलमानों से यह अपील करते हैं कि देश में सद्भावना के पुनस्थार्पन के लिये इसको त्याग कर मिसाल पेश करें।”

उन्होंने कहा कि गोवध और इनके मांस की बिक्री पर रोक लगने से इस मुल्की मजहबी रवादारी मोहब्बत और सद्भावना फिर से उसी तरह कायम हो सकेगी, जैसी सैकड़ों सालों से रही है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *