बड़ी खबर राजनीति

केजरीवाल ने कहा ‘कहीं ईवीएम की गड़बड़ी में शामिल तो नहीं चुनाव आयोग’

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने ईवीएम को लेकर एक बार फिर कड़ा रुख दिखाते हुए कहा कि ईवीएम में बहुत शातिर तरीके से गड़बड़ी की जा रही है और चुनाव आयोग धृतराष्ट्र बन गया है। केजरीवाल ने कहा कि चुनाव आयोग के मुताबिक कल हुए उपचुनाव में धौलपुर में ऐसी 18 मशीनें मिली है जिनसे छेड़छाड़ हुई है।

इस मुद्दे पर केजरीवाल का कहना है कि उन्हें शक हो रहा है कि यह सब कहीं चुनाव आयोग के इशारे पर ही तो नहीं हो रहा। दिल्ली के सीएम ने कहा, “18 मशीनों की गड़बड़ी का मतलब 10 फीसदी वोटिंग गड़बड़ हुई है।”

केजरीवाल ने अपने दावे में मजबूत ढ़ंग से पेश करते हुए कहा, “मैं भी इंजीनियर हूं. आईआईटी से पढ़ा हूं। यह गड़बड़ी नहीं मशीन से छेड़छाड़ है। यह बहुत शातिर तरीके के किया जा रहा हैं। चुनाव आयोग धृतराष्ट्र बन गया है।”

केजरीवाल ने कहा कि कोई भी बटन दबाने पर बीजेपी को ही वोट जा रहा है। एमसीडी में भी राजस्थान से मशीनें मंगवाई जा रही है जिनमें गड़बड़ी पहली ही साबित हो चुकी है। उन्होंने दावा किया कि ईवीएम में गड़बड़ी नहीं है इनका सॉफ्टवेयर, प्रोग्रामिंग, कोड बदला गया है।

इस मामले में चुनाव आयोग को लपेटते हुए दिल्ली के सीएम ने कहा कि चुनाव आयोग जांच के लिए तैयार नहीं हैं। सवाल उठता है कि कहीं चुनाव आयोग भी तो इसमें मिला नहीं हुआ है।

उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग ने भिंड के मामले में क्लीन चिट दे दी थी जबकि तमाम पत्रकारों के सामने गड़बड़ी देखने को मिली थी। केजरीवाल का कहना है कि ईवीएम बदलने से समाधान नहीं निकलेगा।

केजरीवाल ने कहा कि नए सॉफ्टवेयर से ऐसी गड़बड़ी हो रही है कि बटन दबाने पर लाइट तो जलती है लेकिन पर्ची (VVPAT) में बीजेपी की निकल रही है। उनका कहना है कि चुनाव आयोग धृतराष्ट्र बन गया है जो बीजेपी को सत्ता में पहुंचाना चाहता है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *